Module

Chapter 10

मल्टीपल कैंडलस्टिक पैटर्न (भाग 3)

12

अंतिम दो कैंडलस्टिक पैटर्न जिनका हम अध्ययन करेंगे वो हैं मॉर्निंग स्टार (Morning Star) और ईवनिंग स्टार (Evening Star) । इससे पहले कि हम मार्निंग स्टार पैटर्न को समझें, हमें कीमत में उतार चढ़ाव के दो आम सिद्धांतों को समझने की जरूरत है- गैप अप ओपनिंग (Gap up opening) और गैप डाउन ओपनिंग (Gap down opening)। गैप (एक सामान्य शब्द जिसका उपयोग गैप अप और गैप डाउन दोनों को बताने करने के लिए किया जाता है) बाजार में कीमत के उतार चढ़ाव की एक आम गतिविधि है। दैनिक चार्ट पर गैप तब होता है जब स्टॉक बंद तो एक अलग कीमत पर होता है लेकिन अगले दिन एक एकदम ही अलग कीमत पर बड़े बदलाव के साथ खुलता है।

10.1 – गैप (The Gaps)

गैप अप ओपनिंग (Gap up opening) – गैप अप ओपनिंग बाजार में खरीदारों के तेजी के मूड को दिखाता है। ये बताता है कि खरीदार पिछले दिन के क्लोज से अधिक कीमत पर स्टॉक खरीदने के लिए तैयार हैं। खरीदार के इस मूड के कारण, स्टॉक (या इंडेक्स) पिछले दिन के क्लोज से काफी ऊपर खुलता है। उदाहरण के लिए, ABC लिमिटेड की क्लोज कीमत सोमवार को 100 रुपये थी। सोमवार को बाजार बंद होने के बाद ABC लिमिटेड ने अपने तिमाही परिणामों की घोषणा की। नतीजे इतने अच्छे हैं कि मंगलवार की सुबह खरीदार किसी भी कीमत पर इस स्टॉक को खरीदने के लिए तैयार हैं। इस वजह से स्टॉक की कीमत उछलकर सीधे 104 रुपये हो जाती है। हालांकि, 100 और 104 रूपये की कीमत के बीच ट्रेडिंग नहीं हो रही थी, फिर भी स्टॉक 104 तक उछल गया। इसे गैप अप ओपनिंग कहा जाता है। गैप अप ओपनिंग तेजी का मूड दिखाता है। 

नीचे के चित्र में हरे तीर से गैप अप ओपनिंग को दिखाया गया है।

गैप डाउन ओपनिंग (Gap down opening)  –  गैप अप ओपनिंग की तरह ही गैप डाउन ओपनिंग भी बाजार के उत्साह को दिखाता हैलेकिन बेचने वालों यानी बेयर्स के उत्साह को । ये बताता है कि बेयर्स बेचने के लिए इतने उत्सुक हैं, कि वे पिछले दिन की तुलना में काफी कम कीमत पर बेचने को तैयार हैं। ऊपर दिए गए उदाहरण में, यदि तिमाही परिणाम खराब होते, तो बिकवाल स्टॉक से छुटकारा पाना चाहेंगे और इसलिए मंगलवार को बाजार 100 रुपये की कीमत के बजाय स्टॉक सीधे 95 पर खुल सकता है। इस मामले में भी, हालांकि 100 और 95 रुपये के बीच कोई ट्रेडिंग नहीं थी, फिर भी स्टॉक 95 रुपये तक गिर गया। गैप डाउन मंदी के मूड को दिखाता है।

नीचे के चित्र में हरे तीर से गैप डाउन ओपनिंग को दिखाया गया है।

10.2 – मॉर्निंग स्टार (The Morning Star)

मॉर्निंग स्टार एक बुलिश कैंडलस्टिक पैटर्न है जो तीन दिन में विकसित होता है। यह डाउनट्रेंड रिवर्सल पैटर्न (Downtrend reversal pattern) है यानी मंदी के थमने और तेजी आने का संकेत देने वाला पैटर्न। ये पैटर्न लगातार 3 कैंडलस्टिक को मिलाकर बनता है। मॉर्निंग स्टार मंदी के ट्रेंड के निचले सिरे पर दिखाई देता है। नीचे के चार्ट में मॉर्निंग स्टार को घेर कर दिखाया गया है।

मॉर्निंग स्टार पैटर्न में 3 कैंडलस्टिक एक खास क्रम में शामिल होते हैं। पैटर्न ऊपर चार्ट में घेर कर दिखाया गया है। मॉर्निंग स्टार के पीछे की सोच इस प्रकार है: 

  1. बाजार पूरी तरह से बेयर्स के नियंत्रण में है और मंदी में चल रहा है। बाजार इस दौरान लगातार नए लो बनाता है।
  2. जैसा कि उम्मीद की जा रही थी, पैटर्न के पहले  दिन (P1) बाजार एक नया लो बनाता है और एक लंबी लाल कैडल बनाता है। बड़ी लाल कैंडल बिकवाली में बढोत्तरी दिखाती है। 
  3. पैटर्न के दूसरे दिन (P2) पर गैप डाउन ओपनिंग भी बेयर्स के नियंत्रण को दिखाती है।
  4. गैप डाउन खुलने के बाद, दिन (P2) के दौरान कुछ भी नहीं होता है जिसके परिणामस्वरूप या तो एक दोजी या एक स्पिनिंग टॉप बनता है। याद रखिए कि दोजी / स्पिनिंग टॉप बाजार में अनिर्णय की स्थिति को दिखाता है।
  5.  दोजी / स्पिनिंग टॉप बनने से बेयर्स के भीतर थोड़ी सी बेचैनी पैदा होती है, क्योंकि वे एक और मंदी वाले दिन की उम्मीद कर रहे थे, खासकर गैप डाउन ओपनिंग के बाद।
  6. पैटर्न  के तीसरे दिन (P3) बाजार / स्टॉक एक नीली कैंडल के बाद गैप अप खुलता है जो P1 की लाल कैंडल ओपनिंग के ऊपर क्लोज होता है।
  7. अगर P2 को दोजी या स्पिनिंग टॉप नहीं बनता तो ऐसा लगता जैसे P1 और P3 ने एक बुलिश एनगल्फिंग पैटर्न बनाया है। 
  8. बाजार में सारा ऐक्शन P3 को आता है। गैप अप ओपनिंग पर बेयर्स थोड़े घबरा जाते हैं। गैप अप के बाद, दिन के दौरान खरीद बनी रहती है, खरीदारी इतनी अधिक होती है कि P1 के सभी नुकसान की भरपाई हो जाती है।  
  9. उम्मीद यह है कि P3 की ये तेजी अगले कुछ कारोबारी सत्रों में जारी रहेगी और इसलिए बाजार में खरीदारी के मौके तलाशने चाहिए।

एक और दो कैंडलस्टिक पैटर्न के विपरीत, रिस्क लेने वाला और रिस्क से बचने वाला-दोनों ही ट्रेडर अपने ट्रेड P3 पर ही शुरू कर सकते हैं। मॉर्निंग स्टार पैटर्न के आधार पर ट्रेड करते समय चौथे दिन पर पैटर्न की पुष्टि की प्रतीक्षा करना आवश्यक नहीं है। 

मॉर्निंग स्टार के लिए लांग ट्रेड सेटअप यानी खरीद का सौदा निम्नानुसार होगा: 

  1. P3 के क्लोजिंग (लगभग 3:20 PM) के करीब एक लांग ट्रेड आरंभ करें, यह सुनिश्चित करने के बाद कि P1, P2 और P3 एक साथ मिलकर मॉर्निंग स्टार बना रहे हैं। 
  2. मॉर्निंग स्टार के बनने की पुष्टि करने के लिए निम्नलिखित शर्तों को पूरा होना चाहिए: 
  1. P1 एक लाल कैंडल होना चाहिए। 
  2. गैप डाउन ओपनिंग के साथ, P2 को या तो एक दोजी या एक स्पिनिंग टॉप होना चाहिए। 
  3. P3 को गैप अप ओपनिंग होना चाहिए, साथ ही 3:20 बजे बाजार की मौजूदा कीमत (CMP) P1 की ओपन कीमत से अधिक होनी चाहिए। 
  1. पैटर्न में सबसे नीचा लो इस सौदे के लिए एक स्टॉपलॉस के रूप में कार्य करेगा।

 

10.3 – ईवनिंग स्टार (The Evening Star)

ईवनिंग स्टार वो अंतिम कैंडलस्टिक पैटर्न है जिसे हम इस मॉड्यूल में सीखेंगे। 

ईवनिंग स्टार भी मॉर्निंग स्टार के जैसा ही है, बस ये मंदी का पैटर्न है। ईवनिंग स्टार एक तेजी ट्रेंड के ऊपरी सिरे पर दिखाई देता है। मॉर्निंग स्टार की तरह ही ईवनिंग स्टार एक तीन कैंडल वाला पैटर्न है और ये तीन करोबारी सत्रों में विकसित होता है।

ईवनिंग स्टार पर शॉर्ट करने के कारण इस प्रकार हैं: 

    1. बाजार पूरी तरह से बुल्स के नियंत्रण में है और एक तेजी का ट्रेंड बाजार में है। 
    2. इस तेजी के दौरान बाजार/स्टॉक नया हाई बनाता है। 
    3. उम्मीद के मुताबिक ही पैटर्न के पहले दिन (P1), बाजार ऊँचा खुलता है, एक नया हाई बनाता है और दिन के हाई के पास बंद हो जाता है। दिन (P1) में बनी एक लंबी नीली कैंडल भी खरीद में बढ़ोत्तरी दिखाती है। 
    4. पैटर्न के दूसरे दिन (P2) बाजार गैप अप खुलता है जो बाजार में बुल्स के रुख की फिर से पुष्टि करता है। लेकिन, इस उत्साह के बाद बाजार/स्टॉक हिलता नहीं है और एक दोजी / स्पिनिंग टॉप बनाकर बंद हो जाता है। P2 के इस खराब क्लोज से बुल्स को थोड़ी घबराहट होती है। 
    5. पैटर्न के तीसरे दिन (P3), बाजार नीचे की ओर खुलता है और लाल कैंडल में आगे बढ़ता है। लंबी लाल कैंडल बताती है कि बेयर्स बाजार का नियंत्रण ले रहे हैं। P3 को कीमतों में फेर बदल बुल्स में घबराहट पैदा करती है।
    6. उम्मीद यह है कि बुल्स में घबराहट रहेगी और इसलिए अगले कुछ कारोबारी सत्रों में मंदी बनी रहेगी। ऐसे में शॉर्ट के मौके तलाशने चाहिए। 

ईवनिंग स्टार के लिए ट्रेड सेटअप निम्नानुसार है: 

  1. P3 को शाम 3:20 बजे बाजार बंद होने के करीब शॉर्ट करें, बस ये देख लें कि P1 और P3 मिल कर ईवनिंग स्टार बना रहे हैं। 
  2. P3 को ईवनिंग स्टार के बना है इसकी पुष्टि करने के लिए:
  1. P1 को एक नीली कैडल होना चाहिए।
  2. P2 को गैप अप ओपनिंग देना चाहिए और एक दोजी या एक स्पिनिंग टॉप बनना चाहिए।
  3. P3 को गैप डाउन ओपनिंग के साथ एक लाल कैंडल बनना चाहिए। साथ ही, P3 को 3:20 बजे पर कीमत (CMP) P1 की ओपन कीमत से कम होना चाहिए।
  1. रिस्क लेने वाला और रिस्क से बचने वाला, दोनों ही ट्रेडर  P3 पर ट्रेड शुरू कर सकते हैं।
  2.  इस ट्रेड के लिए स्टॉपलॉस P1, P2, और P3 का सबसे उच्चतम स्तर होगा। 

10.4 – कैंडलस्टिक पैटर्न के लिए एन्ट्री और एक्जिट का सारांश

इससे पहले कि हम इस अध्याय को समाप्त करें, हम एक बार फिर से लांग और शॉर्ट दोनों ट्रेड के लिए एन्ट्री और स्टॉपलॉस के मुख्य बिन्दुओं पर नज़र डाल लेते हैं। याद रखें कि कैंडलस्टिक के अध्ययन के दौरान हमने ट्रेड से एक्जिट यानी टारगेट (लक्ष्य) पर बात नहीं की है। हम ये अगले अध्याय में करेंगे। 

रिस्क लेने वाला – रिस्क लेने वाला पैटर्न के बनने के अंतिम दिन (3:20 बजे) क्लोज कीमत के आसपास ट्रेड में एन्ट्री करता है। ट्रेडर को पैटर्न की पुष्टि करना चाहिए और पुष्टि मिलने पर ट्रेड कर सकते हैं।

रिस्क से बचने – रिस्क से बचने वाला ट्रेडर पैटर्न के अगले दिन के कैंडल देखने के बाद ट्रेड शुरू करेगा। लांग ट्रेड के लिए कैंडल का रंग नीला होना चाहिए और शॉर्ट ट्रेड के लिए कैंडल का रंग लाल होना चाहिए। 

एक नियम जो आप मान सकते हैं, एक पैटर्न में शामिल दिनों की संख्या जितनी अधिक होगी उतना ही अच्छा होगा कि ट्रेडर पैटर्न बनने वाले उसी दिन ट्रेड कर लें।

एक लांग ट्रेड के लिए स्टॉपलॉस पैटर्न का सबसे निचला स्तर है। शॉर्ट ट्रेड के लिए स्टॉपलॉस पैटर्न का उच्चतम स्तर है।

10.5 – आगे क्या? 

हमने 16 कैंडलस्टिक पैटर्न को जाना है, लेकिन क्या इतने ही पैटर्न होते हैं? 

वास्तव में नहीं। कई कैंडलस्टिक पैटर्न हैं और मैं इन पैटर्नों को समझा सकता हूं लेकिन इससे हमें हमारा लक्ष्य नहीं मिलेगा।

हमारा अंतिम लक्ष्य ये समझना और पहचानना है कि कैंडलस्टिक बाजारों के बारे में नजरिया बनाने का एक तरीका है। आपको सभी पैटर्न की जानकारी होना जरूरी नहीं है। 

उदाहरण के तौर पर, एक बार जब आप कार चलाना सीख जाते हैं, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन सी कार चलाते हैं। होंडा की कार चलाना हुंदई या फोर्ड की कार चलाने के समान ही है। एक बार कार चलाना आ जाए, तो ड्राइविंग स्वाभाविक रूप से होती है चाहे आप जिस भी कार को चला रहे हों। इसी तरह एक बार जब आप एक कैंडलस्टिक के पीछे की सोच को समझने के लिए अपने दिमाग को प्रशिक्षित कर लेते हैं, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस पैटर्न को देख रहे हैं। आपको पता होगा कि कैसे प्रतिक्रिया करनी है और उस चार्ट के आधार पर ट्रेड कैसे सेट करना है। बेशक, इस स्तर तक पहुंचने के लिए, आपको पैटर्न को सीखने और उसके आधार पर ट्रेड करने के अनुभव से गुजरना होगा। 

इसलिए आपको मेरी सलाह ये है कि जिन पैटर्न की हमने यहां चर्चा की है, उन्हें जान लें। ये भारतीय बाजारों में ट्रेड करने के लिए सबसे लाभदायक पैटर्न हैं और इनका बार-बार इस्तेमाल होता है। जैसे-जैसे आप आगे बढ़ते हैं वैसे-वैसे बुल्स और बेयर्स की विचार प्रक्रिया को समझें और उसके आधार पर ट्रेड को विकसित करना शुरू करें। यह कैंडलस्टिक को अध्ययन करने का सबसे अच्छा तरीका है। 


इस अध्याय की मुख्य बातें 

    1. स्टार का गठन तीन कारोबारी सत्रों में होता है। P2 की कैंडल आमतौर पर एक दोजी या एक स्पिनिंग टॉप होती है।
    2. यदि स्टार पैटर्न में P2 पर एक दोजी बनता है, तो इसे दोजी स्टार (मॉर्निंग दोजी स्टार, ईवनिंग दोजी स्टार) कहा जाता है, अन्यथा इसे केवल स्टार पैटर्न (मॉर्निंग स्टार, ईवनिंग स्टार) कहा जाता है।
    3. मॉर्निंग स्टार एक तेजी का पैटर्न है जो ट्रेंड के निचले छोर पर होता है। यह एक लांग ट्रेड बनाता है। इस ट्रेड के लिए स्टॉपलॉस पैटर्न का सबसे नीचे का लो होगा।
    4. ईवनिंग स्टार एक बेयरिश पैटर्न है, जो एक ट्रेंड के उपरी सिरे पर बनता है। इसमें P3 पर शॉर्ट करना बेहतर होता है। इस ट्रेड में स्टॉपलॉस पैटर्न का सबसे ऊपर का हाई होगा। 
    5. स्टार 3 दिनों में बनता है, इसलिए रिस्क लेने वाले और रिस्क से बचने वाले- दोनों ट्रेडर को P3 पर ट्रेड शुरू करने की सलाह दी जाती है। 
    6. कैंडलस्टिक ट्रेडर की सोच को दिखाता है। आप जितना कैंडलस्टिक को पढ़ेंगे, समझेंगे उतना ही आपका नज़रिया (बाजार को लेकर) भी मज़बूत होगा।

12 comments

  1. Laxman kanojiya says:

    Thank you sir
    Sir yeah price action kya hota h ?
    YT pe log bolte h price behavior ke bare me aur lakho rs ke course ki fee lete h sir
    Sir plzz can u explain what is price action and how to read chart?

  2. Dipak pundir says:

    sir ye multiple candlestick 2 ya 3 dino k banne vale pattern h pr ye 2 ya 3 din k pattern ko ek sath mila kr kese dekhe jate h chart pe.

  3. dipak pundir says:

    Sir gap up opening me candle LAAL bane or VOLUME NILA dikhaye toh uska kya matlab ho sakta hai.

  4. Dhananjay S. Lachake says:

    मुझे इंट्राडे करणा है तो मै कोनसी कॅण्डल स्टिक को इस्तेमाल कर सकता हु.

  5. Vikas says:

    Sir target kaise set kare gye pls inform

  6. rishabh says:

    sir intrday me time frame konsa use kar sakte hai or swing trading k liye konsa time frame shi rahega

    • Kulsum Khan says:

      इंटरड्या के लिए one-minute टाइम फ्रेम इस्तेमाल करें।

  7. rishabh says:

    chote time frame me jada false signal milta asa traders logo ka khena hai

    • Kulsum Khan says:

      यह छोटे टाइम फ्रेम की वजह से नहीं, कई बार टाइम लग, डाटा करप्शन, या स्मूथिंग मेथड्स का इस्तेमाल कुछ इंडीकेटर्स पर करने की वजह से फॉल्स सिंग्नल्स जारी हो सकते है।

Post a comment